test
मंगलवार, जून 25, 2024
होमदर्शनयूपी: हाथरस में दलित युवती के साथ हुए गैंगरेप की घटना का...

यूपी: हाथरस में दलित युवती के साथ हुए गैंगरेप की घटना का अपडेट

-

मसीहुज़्ज़मा अंसारी | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में थाना चंदपा इलाके के गांव में 14 सितंबर को एक 19 वर्षीय दलित युवती के साथ गैंगरेप की घटना सामने आयी है. आरोपियों द्वारा इस घटना को अंजाम देने के बाद कथित रूप से पीड़िता की ज़बान भी काट दी गई और रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गयी है जिसका अलीगढ़ के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है और हालत गंभीर बनी हुई है.

इस घटना के प्रकाश में आने के बाद पुलिस द्वारा छेड़खानी के आरोप में एक युवक को हिरासत में लिया गया था. बाद में उसके खिलाफ धारा 307 (हत्या की कोशिश) में मुकदमा दर्ज किया गया था. अब आईपीसी की धरा 376डी की बढ़ोत्तरी की गई है.

पुलिस के रवैये पर सोशल मीडिया पर लगातार सवाल उठाया जा रहा था और दुष्कर्म की धारा लगाए जाने की मांग की जा रही थी.

इंडिया टुमारो से बात करते हुए हाथरस पुलिस स्टेशन के एसएचओ ने बताया, “पीड़िता के बयान के बाद मुकदमा दर्ज किया गया है और आईपीसी की धरा 376डी की बढ़ोत्तरी की गई है”

कल तक की अपडेट में इस घटना को अंजाम देने वाले चार आरोपियों में से तीन आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए थे जबकि पुलिस द्वारा चौथे आरोपी की तलाश की जा रही थी.

इस मामले में इंडिया टुमारो द्वारा की गयी स्टोरी पर हाथरस पुलिस ने ट्विटर पर रिप्लाई करते हुए अपडेट किया कि, “घटना में नामजद और प्रकाश में आए तीसरे व अंतिम अभियुक्तों की गिरफ़्तारी की जा चुकी हैं.”

हाथरस पुलिस ने आज ट्विट किया है कि, “घटना में गाँव के ही चारो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है. पीड़िता के परिवार को दी जाने वाली अनुदान राशि को तत्काल दिलाने हेतु सम्बन्धित विभाग द्वारा कार्यवाही की जा रही है तथा उक्त अभियोग को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने हेतु भी आवश्यक विधिक कार्यवाही की जाएगी.”

कल हाथरस पुलिस तीसरे आरोपी को अंतिम आरोपी बता रही थी हालांकि आज के हाथरस पुलिस के ट्विट में चार अभियुक्तों के गिरफ्तार होने की बात कही जा रही है.

हाथरस पुलिस द्वारा जारी बयान में ज़बान काटने की बात को निराधार बताया गया है.

पुलिस द्वारा बयान में कहा गया है, “विवेचक द्वारा पीड़िता के बयान दर्ज किए गए हैं. पीड़िता बात कर रही है, जीभ काटने की बात बिलकुल असत्य व निराधार है.”

बसपा सुप्रीमो और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने इस घटना पर ट्विट करते हुए शर्मनाक व अति-निन्दनीय बताया है और कहा है कि दलित व अन्य समाज की बहन-बेटियाँ भी अब यहाँ प्रदेश में सुरक्षित नहीं हैं.

उन्होंने ट्विट किया, “यूपी के जिला हाथरस में एक दलित लड़की को पहले बुरी तरह से पीटा गया, फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया, जो अति-शर्मनाक व अति-निन्दनीय जबकि अन्य समाज की बहन-बेटियाँ भी अब यहाँ प्रदेश में सुरक्षित नहीं हैं। सरकार इस ओर जरूर ध्यान दे, बी.एस.पी. की यह माँग.”

मायावती ने उत्तर प्रदेश में महिलाओं की असुरक्षा को लेकर सरकार पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा है, छात्राओं का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है तो ऐसी कानून-व्यवस्था किस काम की?

उन्होंने कहा है, “यूपी सरकार की अनन्त घोषणाओं व निर्देशों आदि के बावजूद दलितों व महिलाओं पर अन्याय-अत्याचार, बलात्कार व हत्या आदि की घटनायें नहीं रूक रही हैं तो इससे सरकार की नीयत पर सवाल उठना स्वाभाविक है। खासकर छात्राओं का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है तो ऐसी कानून-व्यवस्था किस काम की?”

आज़ाद समाज पार्टी के प्रमुख चंदशेखर आज़ाद आज अलीगढ़ पीड़िता से मिलने की बात अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा की है.

चंद्रशेखर ने ट्विट कर कहा है, “हाथरस की पीड़िता बहन से मिलने एवं उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए कल मैं अलीगढ़ पहुंच रहा हूँ। डीजीपी महोदय बताएं कि अभी तक सभी दरिंदो की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई। इन दरिंदों की तत्काल गिरफ्तारी हो एवं उनपर रासुका के तहत कार्यवाही सुनिश्चित की जाए.”

आज़ाद समाज पार्टी के प्रमुख चंदशेखर आज़ाद ने इस घटना की निंदा करते हुए दोषियों पर कठोर कार्रवाई करने की मांग की है.

चंद्रशेखर ने ट्विट किया है, “हाथरस में वाल्मीकि समुदाय की बहन के साथ दरिंदे बेहद बर्बरता से गैंगरेप करते हैं और उसके रीढ़ एवं गले पर घातक हमला किए हैं। हड्डी टूट गई है। हालत बहुत ही नाजुक है। भीम आर्मी/ASP की टीम हॉस्पिटल में पीड़िता से मुलाकात की। सर्वप्रथम पीड़िता का सही सुचारू इलाज सुनिश्चित की जाए.”

उन्होंने कहा है कि सरकार जातिवादी दरिंदों पर कठोर कार्रवाई करे और पीड़िता परिवार को एक करोड़ का मुआवज़ा दिया जाए.

ट्विट कर कहा, “सरकार इन सभी जातिवादी दरिंदों पर संबंधित धाराओं के साथ रासुका के तहत कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो। पीड़िता के परिवार को 01 करोड़ की आर्थिक मदद एवं एक सरकारी नौकरी सुनिश्चित की जाए ताकि वह पीड़िता की सही देखभाल कर सकें। इस बर्बर अपराध की कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए.”

यह घटना 14 सितंबर की है जब पीड़िता अपनी मां के साथ पशुओं के लिए चारा काटने खेत गई थी. पीड़िता के भाई की शिकायत पर हाथरस पुलिस ने गैंगरेप, हत्या की कोशिश और एससी / एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है.

घटना को अंजाम देने वाले सभी आरोपी एक ही गाँव के हैं और उच्च जाति के बताए जा रहे हैं. इस गांव में दलितों पर अतीत में भी उच्च जातियों के द्वारा दलितों के उत्पीड़न और अत्याचार की बातें कही जारही हैं.

उत्तर प्रदेश में बलात्कार और यौन उत्पीड़न के मामले बढ़ रहे हैं. पिछले कुछ दिनों में महराजगंज, लखीमपुर खीरी, मेरठ और ग्रेटर नोएडा में नाबालिगों से बलात्कार की कई घटनाएं हुई हैं.

घटना के 9 दिन बीत जाने के बाद पीड़िता को होश आया और घटना संज्ञान में आयी.

Donate

Related articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest posts