test
मंगलवार, जून 25, 2024
होमसमसामयिकदिल्ली दंगा: चार्जशीट में येचुरी के नाम पर चिदंबरम ने कहा, पुलिस...

दिल्ली दंगा: चार्जशीट में येचुरी के नाम पर चिदंबरम ने कहा, पुलिस ने न्याय प्रणाली का मज़ाक बनाया

-

मसीहुज़्ज़मा अंसारी | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली, 13 सितंबर | नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में फरवरी में हुए दंगे में पुलिस ने एडिनशल चार्जशीट दायर की है जिसमें भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी समेत कई बड़े नाम भी शामिल हैं. इन बड़े नामों पर कांग्रेस के राज्यसभा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम ने दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाते हुए इसे आपराधिक न्याय प्रणाली का भद्दा मजाक कहा है.

दिल्ली पुलिस द्वारा बुद्धजीवियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और नेताओं को दिल्ली दंगे की साज़िश का आरोपी बनाने को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदम्बरम ने दिल्ली पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाया है.

चिदंबरम ने ट्वीट कर अपने विचार साझा किए हैं.

चिदम्बरम ने ट्वीट कर कहा, “दिल्ली पुलिस ने दिल्ली दंगों के मामले में एक पूरक आरोप पत्र में श्री सीताराम येचुरी और कई अन्य विद्वानों और कार्यकर्ताओं का नाम लेते हुए आपराधिक न्याय प्रणाली का भद्दा मजाक उड़ाया है.”

ज्ञात हो कि दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल आरोपपत्र में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव, दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अपूर्वानंद जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और अन्य प्रमुख लोगों के नाम सामने आए हैं.

दिल्ली पुलिस ने 3 आरोपी छात्राओं के बयान को आधार बनाकर येचुरी, योगेंद्र यादव और अपूर्वानंद समेत सभी के नाम चार्जशीट में दाखिल किए गए हैं. पुलिस ने चार्जशीट में गंभीर आरोप लगाया है.  

चिदंबरम ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा है कि क़ानून इतना मूर्ख नहीं हो सकता कि किसी के बयान देने मात्र से उसे आरोपी बनाया जाएगा.

चिदंबरम ने ट्वीट किया है, “कानून इतना मूर्ख नहीं हो सकता है, यदि किसी आरोपी (गुलफिशा फातिमा) ने अपने बयान में एक नाम का उल्लेख किया है, तो उस व्यक्ति को चार्जशीट में आरोपी बनाया जाएगा. क्या दिल्ली पुलिस यह भूल गई है कि सूचना और चार्जशीट के बीच जांच और पुष्टि नामक महत्वपूर्ण कदम हैं?”

उन्होंने कहा है, “मुझे खुशी है कि श्री जूलियो रिबेरो ने दिल्ली पुलिस को दिल्ली दंगों के मामले में पक्षपातपूर्ण व्यवहार के लिए भर्त्सना की है। क्या दिल्ली पुलिस इस प्रतिष्ठित पुलिस अधिकारी की बात सुनेगी?”

योगेंद्र यादव ने ट्वीट कर कहा है, “आरोप पत्र में हमारा नाम अभियुक्त के तौर पर नहीं है बल्कि एक अभियुक्त के बयान के आधार पर शामिल किया गया है और यही सही है.”

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी ने चार्जशीट में नाम आने के बाद मोदी सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि जिन लोगों के भड़काऊ वीडियो मौजूद हैं उनपर दिल्ली पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. ये पूरा मामला विपक्ष को निशाना बनाने का है.

मामले में नाम आने के बाद येचुरी ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, “दिल्ली पुलिस भाजपा की केंद्र सरकार और गृह मंत्रालय के नीचे काम करती है। उसकी ये अवैध और ग़ैर-क़ानूनी हरकतें भाजपा के शीर्ष राजनीतिक नेतृत्व के चरित्र को दर्शाती हैं। वो विपक्ष के सवालों और शांतिपूर्ण प्रदर्शन से डरते हैं, और सत्ता का दुरुपयोग कर हमें रोकना चाहते हैं.”

दिल्ली दंगों में आरोपी देवांगना कलिता, नताशा नरवाल और गुलफिशा फातिमा द्वारा किए गए खुलासे एवं बयानों में प्रमुख हस्तियों का नाम लिया गया है. यह तीनों गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं.

Donate

Related articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest posts